Khush kaise Rahe ।How to be happy in hindi ।अकेले खुश कैसे रहे ।

खुश कैसे रहे।

 How to be happy in hindi.

अभी के भागदौड़ भरे समय मे सबसे बड़ा सवाल है कि कैसे खुश रहा जाए ।हम हर वक्त दुखी रहते है क्योंकि हम बहुत ज्यादा सोचते है ।बेकार की चिंताओ से हमारे चारो तरफ घिरे रहते है ।हम भुल जाते है की उपर वाले ने हमे खुश रहने के लिए बनाया है ।
ईश्वर ने हमे बहुत मेहनत करके बनाया है वह चाहता है कि हम उसके संसार को और भी ज्यादा अच्छा बनाए भगवान्, चाहता है कि हम हमेशा खुश हो ।भगवान् ने प्रकृति को बनाया ही हमारे लिए है Natural beauty हमे तरोताजा करने के लिए है ।दूनिया के हर एक वस्तु मनुष्य के लिए है आपकी खुशीयों के लिए ही बनी हुई है ।
लेकिन जब हम बेमतलब की Tension लेना सुरू कर देते है तब बिमार होने लगते है ।बेकार की टेंशन से हम डाक्टर और दवा को निमंत्रण देने लगते है ।
जब तक आप Natural तरीके से जीते है तब तक आप कभी बिमारी के शिकार हो ही नही सकते ।तनाव हर एक बिमारी का पहला बीज है ।जब आप Unnatural तरीके से जीवन जीना सुरू कर देते है तब सुरूआत होने लगता है छोटी छोटी बिमारीयो High blood pressure, Lever problem, Insomnia,चिड़चिड़ापन जैसी समस्याए आने लगती है ।अप्राकृतीक तरीके से जीवन जीना यानी दवाओ के सहारे जीना होता है ।
अगर एक बार आपने अपने आसपास से तालमेल बैठाने के तरीके से सीख ले तब आपको कोई जरूरत नही पड़ेगी की कोई और आपके खुशी का कारण बने, आप खुद खुशीयों को खींच कर ला सकते है ।खुद को और पुरे परिवार के साथ साथ समाज को भी कुछ महत्वपूर्ण योगदान दे सकते है ।
कुछ जरूरी बाते जिन्हे अपनाने से आप तनावमुक्त हो सकते है ।
How to be happy


Khush kaise rahe hindi tips 

खुश कैसे रहे 

किसी भी समस्या को ठीक करने का पहली सुरूआत होती है समस्या का कारण जानने से वैसे ही हमे अपने भीतर झांककर देखना होगा कि कही हम खुद ही तो नही हर एक छोटी सी रूकावट को अपने दिमाग से बड़ी परेशानी के रूप मे देखते है 

1 कही हमारे विचार ही तो नही सभी चिंता का कारण ।

हमारे सोचने के तरीके मे ही सब कुछ छुपा हुआ है ।हम सोचते है कि हमारे खुशी का कारण समाज या दूसरे लोग होते है अगर वे हमारे साथ अच्छा व्यवहार करते है तब हम खुश हो सकते है या दूखी।लेकिन असलियत कुछ और ही है ।हमारे खुशी या दूख का कारण हम खुद या हमारी सोच ही रहती है ।दूसरे लोग तो एक बार हमसे बुरा बर्ताव कर के चले जाते है लेकिन हम लगातार अपने साथ गलत करते रहते है ।
दूनिया हमेशा से एसी ही है बात यह है कि हम अपना नजरिया जैसा रखेंगे वैसा महसूस करेंगे ।याद रखिए जैसी आपकी सोच होगी वैसे ही आपका mood होगा ।
जैसे कि आप सोचते है कि मेरे  से अमुक काम नही होगा मेरे जिंदगी मे बस परेशानी ही परेशानी है जैसे कि मै इस काम के लाएक ही नही हु।या लोग क्या कहेंगे ।ऐसे विचार आपको पीछे खींच लेते है आपकी जिंदगी से ।हमेशा से नकारात्मक विचार मनुष्य को दुखी करते आए है ।

2 अपने आप को असहज महसूस ना कराए 

हम सभी का निर्माण ईश्वर ने बहुत प्यार से किया है हम प्रकृति के प्रेमकी  उपज है ।हमारी पहली priority होना चाहिए खुश होना हमे इसका अभ्यास करना होगा ।
लेकिन जब हम अपने चारो तरफ नकारात्मक ऊर्जा, द्वेष, क्रोध, से भरे लोगोको देखते है तब हम भी इससे घिरा हुआ महसूस करते है ।हमे खुद को याद दिलाना होगा कि हमरा निर्माण असहजता से ऊपर सहज होने के लिए, गुस्सा से ऊपर शान्ति के लिए और द्वेष से ऊपर प्यार करने के लिए हुआ है ।अपने से वादा करे की आप यह सब करते रहेंगे ।

3 अच्छी सोच को अपनाए 

क्या आप जानते हो कि आपकी सोच से ही उर्जा का निर्माण होता है चाहे वह बुरी सोच से हो या अच्छी सोच से ।हमारे अंदर की सभी उर्जा का स्रोत हमारे सोच ही है जब आप किसी काम को करने की ठान लेते है तब कोई भी बाधा बड़ी नही लगती कारण है आपकी positive thoughts से निकलनेवाली उर्जा ।वही अगर आप अपनी सोच को उस काम के लिए इस तरह रखते है जैसे यह बहुत मुश्किल है मुझसे नही होगा तब आप negative energy produce करते है ।आपके गलत विचार मे यह भी है कि आप कुछ कर नही सकते ।जिंदगी मे कुछ भी अच्छा नही हो रहा है आप इसके लायक ही नही इत्यादि इत्यादि ।ईन सभी सोच से आप अपनी संभावना को कमजोर कर रहे होते है ।ऐसे मे हमारे सोच का दायरा सिमटते चला जाता है ।हर पल खुदसे कहते रहे कि मेरा निर्माण खुश रहने के लिए ही बना है ।
Khush kaise rahe

4 Emotions को control करना है सबसे ज्यादा जरूरी 

अब चलीए मेरे साथ आप अपने से एक सवाल पूछीए की क्या मै इस समय खुश हु? अगर जवाब negative मिले तो एक महत्वपूर्ण वाक्य बार बार दोहराऐ "अगर मुझे खुश रहना है सफलता हासिल करनी है महान बनना है तो मुझे अपने Emotions को control करना ही होगा " बस इसके बार बार दोहराने से ही आपके मस्तिष्क मे गहरा संदेश जाएगा ।
हर काम या परिस्थिति तो आपके अनुसार चल नही सकती इसलिए हर बात पर तनाव लेना छोड़ दे ।कभी-कभी कोई गलती हो भी जाए दुसरो से तो माफ करना सिखे अगर खुद से कोई गलती हो जाए तो आत्मग्लानि मे ना डुबो खुद को माफ करे ।आपको आगे बढ़ने के लिए खुद को क्षमाकरना ही होगा । 

5 हमेशा अच्छे विचार ही मस्तिष्क मे रखें 

जब आप हमेशा उस विचार पर ध्यान केंद्रित करते है जो आपको खुशी देती है तब automatically आपकी जिंदगी खुबसूरत लगने लगती है ।कभी भी ईस बात पर ध्यान ना दे कि लोग क्या कर रहे है या क्या कहेंगे हमेशा इसपर केंद्रीत रहेकी आप क्या कर सकते हो ।आपको जीस भी काम से खुशी मिलती हो वह काम करे ।चाहे काम कोई भी हो अगर उसके पुरे होने के बाद आप खुश रहते हो तो जरूर करे लेकिन अगर काम खत्म होने के बाद आप ग्लानि महसूस कर रहे हो तब वह अप्राकृतीक काम है उसे तुरंत त्याग देना चाहिए ।

6 हमेशा एक healthy lifestyle का चुनाव करे 

नियमित रूप से एक अच्छी routine बना के चलीए ।सुबह थोड़ी जल्दी उठने की कोशिश किजिये ।एक ही समय पर सोना और जगना आपकी जिंदगी को थोड़ा बैलेंस कर्ता है।
कभी-कभी रूटीन से हटकर कुछ करना बहुत बढ़िया है लेकिन रोज ऐसा करने से आप अपनी उर्जा को कम करने का काम करते है ।

शोध कहता है कि पर्याप्त नींद लेने से आप एक सकारात्मक उर्जा के इंसान बनते है पर्याप्त नींद  से समस्या सुलझाने की क्षमता मे भी बढोतरी होती है ।
टीवी देखना कम करे यह आपके जीवन को घटाकर कम करता है ।अच्छा भोजन करे और सही तरीके से करे ।
गहरी साँस लेना संसार के सभी दवा से बेहतर काम करता है ।
धन्यवाद 🙏

Comments

Popular posts from this blog

Successful और unsuccessful लोगो के बीच 9 अन्तर क्या -क्या होती है?

Yoga kaise Kare।योग कैसे करे